अंग्रेजी की मशहूर कहावत है, “प्रिवेंशन इज़ बेटर दैन क्योर”; यानी बीमारी से बचाव बेहतर है. हालांकि, यह भी सच है कि बीमारी से बचने की गारंटी भी कोई नहीं दे सकता है. बीमारी एक आपदा की तरह अचानक आती है. ऐसे में इससे निपटने की पूरी तैयारी होनी चाहिए.

मेडिकल इमरर्जेंसी होने की तैयारी हमें पहले ही कर लेनी चाहिए.

  • अपने आस-पास के अस्पतालों की पूरी जानकारी रखें.
  • पहले से पता कर लें कि किस अस्पताल में आईसीयू की सुविधा है.
  • अपने मोबाइल में एक या एक से ज़्यादा एंबुलेंस का नंबर रखें.
  • मेडिकल खर्च के लिए अलग से सेविंग रखें और उसे किसी भी हालत में खर्च करने से बचें.
  • संभव हो तो हेल्थ इंश्योरेंस लें और उसकी शर्तों की पूरी जानकारी रखें.
  • उन अस्पताल के फ़ोन नंबर रखें जहां आपकी इंश्योरेंस कंपनी कैशलेस इलाज की सुविधा देती है

इसके साथ ही इलाज का खर्च बढ़ने पर पैसे का इंतजाम करने की पूरी तैयारी रखना भी ज़रूरी है. मेडिकल खर्च का अंदाजा लगाना मुश्किल होता है. आज की तारीख में इलाज का खर्च काफी बढ़ गया है. हर बार सेविंग, इलाज के खर्च को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं होता है.

हेल्थ इंश्योरेंस इलाज के लिए काफी नहीं

अगर आपके पास हेल्थ इंश्योरेंस नहीं हो, तो स्थिति और भी बुरी हो सकती है. हेल्थ इंश्योरेंस में भी सभी बीमारी कवर नहीं होता है. ऐसे में मेडिकल खर्च को पूरा कर पाना और भी मुश्किल हो जाता है. इंश्योरेंस में कैशलेस की सुविधा नहीं रहने पर आपको तत्काल पैसे का इंतजाम करना पड़ता है. क्लेम करने के कई महीनों के बाद आपको मेडीक्लेम मिल पाता है. अमूमन अस्पताल में हुए खर्च का सिर्फ़ 60 से 70 फीसदी रकम ही मेडीक्लेम में कवर होता है.

हममें से हर कोई अपने परिवार के सदस्यों का बेहतर इलाज करवाना चाहता है. लेकिन यह इस पर निर्भर करता है कि आपके पास कितनी सेविंग्स है और आपका इंश्योरेंस इलाज को कवर करता है या नहीं. पर्सनल लोन लेकर आप तुरंत इलाज का खर्च पूरा कर सकते हैं और अपने परिजनों की जान बचा सकते हैं.

मेडिकल लोन लेकर करवाएं बेहतर इलाज

पर्सनल लोन तुरंत मिल जाता है. लोन लेने के लिए आपको कोई भी सिक्योरिटी देने की ज़रूरत नहीं पड़ती है. Money View जैसी लोन देने वाली कंपनी 24 घंटे के भीतर आपके खाते में पैसे भेज देती है. आप लोन के लिए पात्र है या नहीं इसे दो मिनट में चेक कर सकते हैं. अपनी एलिजिबिटी चेक करने के लिए यहां क्लिक करें.

एक बार बैंक से लोन एप्रूव होने के बाद 24 घंटे भीतर पैसे आपके खाते में ट्रांसफ़र हो जाते हैं. आप इलाज के लिए पांच लाख तक पर्सनल लोन ले सकते हैं. मासिक आमदनी के हिसाब से इसमें कुछ फ़र्क आ सकता है.

Money View से पर्सनल लोन लेने के लिए आपको डॉक्यूमेंट जमा करने के लिए इसके ऑफिस जाने की भी ज़रूरत नहीं पड़ती है. बैंक की तरह इसके लिए आपको भागदौड़ नहीं करनी पड़ती है और आप अपने परिजन के इलाज पर फोकस कर पाते हैं. पर्सनल लोन के लिए सिर्फ़ तीन तरह के डॉक्यूमेंट वेबसाइट पर अपलोड करने होते हैं. डॉक्यूमेंट की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें. पर्सनल लोन लेने के लिए आपको इलाज से जुड़ा कोई भी डॉक्यूमेंट देने की ज़रूरत नहीं पड़ती है.

Money View बाजार के मुकाबले बहुत कम ब्याज दर लेती है. पर्सनल लोन पर लगने वाले ब्याज दर को देखने के लिए यहां क्लिक करें.

आप चार स्टेप का पालन करके पर्सनल लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं. पर्सनल लोन के लिए आवेदन देने के लिए यहां क्लिक करें.